समस्याएं बरकरार आजादी के 73 साल बाद भी गांवों में

0
changemaker

राजनीति के कारण बरसों से अटका पड़ा हरसौर सीएचसी का पुनर्निर्माण

आजादी के 73 साल बाद भी गांवों में समस्याएं बरकरार
– ये है हरसौर नागौर

fastNewsNagaur हरसौर (नागौर): राजस्थान पत्रिका के चेंजमेकर अभियान के तहत गुरुवार को

वेबीनार आयोजित कर भैरुन्दा पंचायत समिति में 10 अक्टूबर को होने वाले पंचायतीराज चुनाव को लेकर चर्चा की गई।

वेबीनार में राजस्थान पत्रिका महाअभियान से जुड़े वॉलंटियर व चेंजमेकर ने अपने विचार व्यक्त किए।

उन्होंने महाअभियान को राजनीति में स्वच्छता की नई शुरुआत बताते हुए कहा की राजनीति में बदलाव के

लिए सभी को एक साथ होकर आपनी सोच बदलनी होगी। प्रयास किए जाने चाहिए कि ग्रामीण क्षेत्रों कि सर्वांगीण

विकास हो सके। सभी ग्रामीणों ने गंदगी, चिकित्सा सुविधा, शिक्षा, बिजली, सड़क, पेयजल, आर्थिक तंगी आदि समस्याओं को लेकर अपने व्यक्त किए।

सीएचसी को लेकर उठे मुद्दे 

हरसौर कस्बे के सदर बाजार स्थित सीएचसी में समय से सुविधाओं का अभाव है,

इसको लेकर चेंजमेकर अभियान को लेकर आयोजित वेबीनार में चर्चा हुई।

ग्रामीण ने इसे राजनीति का शिकार बताते हुए नए सरपंच से उम्मीद जताई।

अब नया सरपंच ही पंचायत में सीएचसी का निर्माण करवा सकता है।

स्वच्छ राजनीति को लेकर पत्रिका के चेंजमेकर अभियान के तहत वेबीनार आयोजित,

काफी समय से चली आ रही सामुदायिक चिकित्सा केन्द्र की असुविधा के कारण लोगों को काफी परेशानियों

का सामना करना पड़ा रहा है। राजकीय चिकित्सालय में सुविधा का अभाव होने से मरीजों को

निजी चिकित्सालय में जाना पड़ता है, जहां दवाइयों व डॉक्टर की फीस काफी भारी पड़ती है।

वेबीनार में भैरुन्दा पंचायत समिति की विभिन्न ग्राम पंचायतों से हरिराम प्रजापत लुनियावास, जितेन्द्र कुमार सैनी,

राजेन्द्र कुमार, बबलू खान कोड, सोहन बंजारा, गणेश सैनी, पूनाराम गिरी, गुमान दायमा,

दिनेश गहलोत, जयप्रकाश ओझा, सीताराम सैनी, मुकेश चौधरी, नाथूराम गौदारा, सुरेन्द्र सिंह आदि ने भाग लिया।

नागरिकों ने दिए सुझाव

हरसौर नृसिंह बासनी विद्यालय हो 12वीं तक क्रमोन्नत पंचायत समिति भैरुन्दा की ग्राम पंचायत कोड के

गांव नृसिंह बासनी विद्यालय को 12वीं तक क्रमोन्न करें, ताकि बालिकाएं आगे पढ़ लिख कर सुनहरा भविष्य बना सके।

दसवीं तक स्कूल होने के कारण अधिकांश बालिकाएं दसवीं बाद पढ़ाई छोड़ देती हैं।

-लुकमान शाह, नृसिंह बासनी, कोड पंचायत

जल्द हो राजकीय सामुदायिक चिकित्सा केन्द्र का पुनर्निर्माण

हरसौर को लेकर हमेशा सीएचसी का मुद्दा उठाया जाता है, लेकिन चुनावों के बाद जनप्रतिनिधि इन

अहम मुद्दों को भूल जाते हैं। हरसौर में पिछले पांच साल से होने वाली प्रत्येक जन सुनवाई में

सीएचसी को लेकर ज्ञापन सौंपा गया है, लेकिन कार्यवाही नाममात्र भी नहीं हुई।

– रफीक मोहम्मद, मिलन ग्रुप, हरसौर

प्रेरणा बनकर उभर रहा अभियान

गांव में बसने वाले सभी लोगों का सम्मान रूप से विकास हो, यही जनप्रतिनिधि का दायित्व है।

स्वच्छ राजनीति से गांवों का विकास होगा। सभी के लिए चेंजमेकर अभियान प्रेरणा बनकर उभर रहा है।

– अरविन्द शर्मा, अध्यापक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here