27 साल युवक की दोनों किडनियां खराब आड़े आई आर्थिक तंगी

0
https://fastnewsnagaur.com
मां व पत्नी अपनी एक-एक किडनी देने को तैयार

27 साल के युवक को मां व पत्नी अपनी एक-एक किडनी देने को तैयार

27 साल युवक की दोनों किडनियां खराब आड़े आई आर्थिक तंगी
मां व पत्नी अपनी एक-एक किडनी देने को तैयार

fastnewnagaur पांचौड़ी: बैराथल कल्ला के (27 साल के युवक) पर्वत सिंह राजपूत पिछले 3 साल से किडनी की समस्या से जूझ रहे है। उनकी दोनों किडनियां पूरी तरह खराब हो चुकी। अब घर की आर्थिक स्थिति पर्वतसिंह और जिंदगी के बीच पहाड़ बनकर खड़ी हो गई है। पर्वतसिंह ने नागौर, जोधपुर सहित कई जगहों पर इलाज करवाया मगर कोई फायदा नहीं हुआ।

डॉक्टरों ने दोनों किडनियों के खराब होने तथा किडनी प्रत्यारोपण करने के लिए करीब 8 से 9 लाख रुपए का खर्चा बताया है।

27 साल के युवक पर्वत सिंह के लिए बड़ी गंभीर स्थिति बन चुका है। उनकी माता सुरजा कंवर व पत्नी धापू कंवर ने बताया कि वो पहले ही इलाज के लिए कर्ज लेकर लाखों रुपए खर्च कर चुके है।

मगर अब कर्ज में दबने के साथ ही गहरा आर्थिक संकट आ गया है जिससे किडनी का प्रत्यारोपण करवाया जाना असंभव हो गया है।

दोनों महिलाएं पर्वत सिंह की जिंदगी बचाने के लिए अपनी एक एक किडनी देने को तैयार है मगर किडनी प्रत्यारोपण के लिए

डॉक्टरों द्वारा बताई गई राशि जुटाना उनके लिए मुश्किल है।

उन्होंने तीन साल में इलाज के लिए करीब छह लाख का कर्ज ले लिया है।

मजदूरी कर घर चला रहा है मरीज का बड़ा भाई

मरीज का बड़ा भाई मजदूरी करके परिवार का पालन-पोषण कर रहा है।

मगर अब कर्ज अधिक बढ़ने से पूरा परिवार चिंता में है।

वर्तमान में 27 साल के युवक पर्वत सिंह की महीने में दो बार डायलेसिस करवाई जा रही है।

जिससे हर माह करीब 15 हजार का खर्चा होता है। अब उनके लिए आर्थिक समस्या खड़ी हो गई है।

27 साल के पर्वतसिंह के दो बच्चे है जिनमें 6 साल की बच्ची है तथा दो साल का बच्चा है।

विधायक नारायण बेनीवाल ने सरकारी व निजी स्तर पर सहायता दिलाने का आश्वासन पीड़ित परिवार को दिया है।

खाद्य सुरक्षा में भी नहीं जुड़ा है नाम

पर्वत सिंह का सरकारी योजना के खाद्य सुरक्षा से भी वंचित है।

उन्होंने बताया कि इसके लिए पहले आवेदन किया था मगर अब तक नाम नहीं जुड़ा,

जिसके चलतेे उनको सरकार की ओर से दिया जाने वाली खाद्य सुरक्षा का भी कोई फायदा नहीं मिल रहा है।

वहीं चिकित्सा के लिए सरकार से मांग की गई मगर कोई फायदा नहीं हुआ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here